समय चक्र

बुधवार, 13 अप्रैल 2011

                                         
        थक जाओ तो हमें बुलाना.
           जीवन है हमको जीते जाना,रोना हँसना - हँसाना गाना !
           किसी मोड़ पे जो तुम प्यारे, थक जाओ तो हमें बुलाना!!

           यह जीवन है एक चढ़ती नसेनी,
          हर सीढ़ी एक नया साल है,
          सीढ़ी-सीढ़ी चढ़ते जाना,थक जाओ तो हमें बुलाना !!1!!

         यह जीवन उड़ता आसमान सा,
         हर साल एक गुब्बारा है,
         हर साल एक नया उड़ाना,थक जाओ तो हमें बुलाना !!2!!

         यह जीवन है राजपथों सा,
         हर साल एक मील का पत्थर,
         हर साल एक नया चल के जाना,थक जाओ तो हमें बुलाना!!3!!

1 टिप्पणी: