समय चक्र

शनिवार, 9 अप्रैल 2011

                                      अन्ना का अभिनन्दन है!

                                    आज फिर से हवा चली है,हवा नहीं ये आंधी है!
                                     अन्ना कोई नया नहीं है,वही पुराना गाँधी है!!
कुर्सी वाले कुकुरमुत्तों को, अन्ना ने जांचा है!
जनता का लोकपाल उनके, मुंह पे एक तमाचा है!!
अन्ना ने दिल्ली में जाकर, दिल्ली को ललकारा  है!
बता दिया है देश को दिल्ली कितनी  नाकारा है!!
दुनिया ने फिर भांप लिया है, भारत क्यों आबाद है!
शास्त्री जी के सोमवार की  हमको अब तक याद है!!
                                                                                 जनता नहीं अब बहलेगी, केवल आश्वासन से!
                                                                                 प्रमाण मांगे जायेंगे, तरक्की के, शासन से!!
                                                                                 उनका चेहरा डरा हुआ है, जो जीते है नोट से!
                                                                                 'मन्नू' भाई की मोटर चल रही रिमोट से!! 
रिमोट "मेड इन इटली' का पर सेल पड़ गए डाउन है! 
अन्ना ने उन्हें ललकारा, जिनके सर पे क्राउन है!! 
अन्ना करता अनशन जब, लगता मनमौजी है! 
आखिर उसके अन्दर वोही, सन बासठ वाला फौजी है!! 
अन्ना हजारे एक नही, अब गणना है  करोड़ पे ! 
घर बाहर बाज़ारों में, घूम रहा है रोड पे !! 
अन्ना का अनशन पूजा है,अन्ना का धरना वंदन है! 
ऐसे माटी के सपूत का ,पसीना भी चन्दन है!!
                                                 अन्ना का अभिनन्दन है!
                                                 अन्ना का अभिनन्दन है!!

3 टिप्‍पणियां: