समय चक्र

बुधवार, 13 अप्रैल 2011

                                         
        थक जाओ तो हमें बुलाना.
           जीवन है हमको जीते जाना,रोना हँसना - हँसाना गाना !
           किसी मोड़ पे जो तुम प्यारे, थक जाओ तो हमें बुलाना!!

           यह जीवन है एक चढ़ती नसेनी,
          हर सीढ़ी एक नया साल है,
          सीढ़ी-सीढ़ी चढ़ते जाना,थक जाओ तो हमें बुलाना !!1!!

         यह जीवन उड़ता आसमान सा,
         हर साल एक गुब्बारा है,
         हर साल एक नया उड़ाना,थक जाओ तो हमें बुलाना !!2!!

         यह जीवन है राजपथों सा,
         हर साल एक मील का पत्थर,
         हर साल एक नया चल के जाना,थक जाओ तो हमें बुलाना!!3!!

शनिवार, 9 अप्रैल 2011

                                      अन्ना का अभिनन्दन है!

                                    आज फिर से हवा चली है,हवा नहीं ये आंधी है!
                                     अन्ना कोई नया नहीं है,वही पुराना गाँधी है!!
कुर्सी वाले कुकुरमुत्तों को, अन्ना ने जांचा है!
जनता का लोकपाल उनके, मुंह पे एक तमाचा है!!
अन्ना ने दिल्ली में जाकर, दिल्ली को ललकारा  है!
बता दिया है देश को दिल्ली कितनी  नाकारा है!!
दुनिया ने फिर भांप लिया है, भारत क्यों आबाद है!
शास्त्री जी के सोमवार की  हमको अब तक याद है!!
                                                                                 जनता नहीं अब बहलेगी, केवल आश्वासन से!
                                                                                 प्रमाण मांगे जायेंगे, तरक्की के, शासन से!!
                                                                                 उनका चेहरा डरा हुआ है, जो जीते है नोट से!
                                                                                 'मन्नू' भाई की मोटर चल रही रिमोट से!! 
रिमोट "मेड इन इटली' का पर सेल पड़ गए डाउन है! 
अन्ना ने उन्हें ललकारा, जिनके सर पे क्राउन है!! 
अन्ना करता अनशन जब, लगता मनमौजी है! 
आखिर उसके अन्दर वोही, सन बासठ वाला फौजी है!! 
अन्ना हजारे एक नही, अब गणना है  करोड़ पे ! 
घर बाहर बाज़ारों में, घूम रहा है रोड पे !! 
अन्ना का अनशन पूजा है,अन्ना का धरना वंदन है! 
ऐसे माटी के सपूत का ,पसीना भी चन्दन है!!
                                                 अन्ना का अभिनन्दन है!
                                                 अन्ना का अभिनन्दन है!!

सोमवार, 4 अप्रैल 2011

 
 वर दे ! वर दे!! वर दे!!!

एक दिन बोले भोगी जी!
 इक बात बताओ योगीजी !!
मेरे मन में जिज्ञासा है ,
समाधान की आशा है?
मैं बोला निसंकोच कहो
सोच के कहो बिनसोच कहो!!

ख़ुशी ख़ुशी भोगी बोले प्रश्नों के दागे गोले
बोले कि जल से पतला कौन है कौन भूमि से भारी
कौन आग से तेज है और कौन काजल से काली !!!

जल से पतला कौन है?
जी, माफिया का डोन है,
देश जिसका बंगला है
दिल्ली जिसका लॉन है,
जनपथ से राजपथ तक जिसका आना जाना ऑन है {अधिक अर्थ हेतु १० जनपथ और ०७ राजपथ पढ़े }
जल से पतला कौन है ?
जी,माफिया का डोन है !!

कौन भूमि से भारी है?
जी,आज कल कि नारी है,
घर में पति बेचारा है,
बाहर ये बेचारी है
३३ की अधिकारी है
वेट मशीन पे वेट करवालो ये सब पे भारी है
कौन भूमि से भारी है?
जी, आज कल की नारी है!!

गठबंधन सरकारों में
जो घूमता है कारों में
निर्दलीय जीत कर आता है
और मंत्री पद पा जाता है
ऐसे नेता का क्रेज है
यह आग से भी तेज है !!

हमारे नेता भालू से
कलमाड़ी और लालू से
सुखराम मुलायम चालू से
बने है चिकनी बालू से
सब के सब बंटाधारी है
पोलिटिक्स काजल से काली है!!

इतना सुनकर भोगीजी
जो थे हार्ट के रोगी जी
हार्ट पकड़ के बैठ गए
दर्द उठा तो लेट गए
फिर तो बड़ा दुर्योग हुआ
उनका हमसे वियोग हुआ
तब से बहुत मैं डरता हूँ
नित्य प्रार्थना करता हूँ
वर दे, वर दे , वर दे,
जनता को दिल देने वाले नेताओ को भी दिल का वर दे!
यदि नहीं तो हम सबके सीने में इक पत्थर धर दे!!वर दे वर दे वर दे!!!