समय चक्र

शनिवार, 31 दिसंबर 2011


                   नया साल हमको ..
साल रहा है मलाल हमको ,
जा रहा है छोड़ गया साल हमको|
 
जो नहीं दे कर गया 'गया साल',
वो दिलाएगा नया साल हमको||

 

हर साल का एक इतिहास होता है.
कुछ अलग हर साल अहसास होता है.
किसी के लिए रीता रीत जाता है..और..
किसी के लिए खास होता है
..तो नया साल मिलेगा कमाल हमको||१||
 


ग्रह बदलेंगे -चाल बदलेगी.
कलेंडर के साथ दीवाल बदलेगी.
खड़े है हम कौम के नाजुक मुकाम पे.
हम बदलेंगे तो पूरा हाल बदलेगा
..तो दुनिया में करना है धमाल हमको||२||


1 टिप्पणी: